किरण बेदी को पुदुच्चेरी से क्यों हटाया गया?

किरण बेदी को पुदुच्चेरी से क्यों हटाया गया?


 पुदुच्चेरी  की उपराज्यपाल के पद से किरण बेदी को हटाने  के पीछे तीन कारण है. सबसे बड़ी वजह है कि आने वाले विधानसभा चुनाव, जिसके चलते ये फैसला किया गया है. पहला, पुदुचेरी की कांग्रेस सरकार किरण बेदी पर समानांतर सरकार चलाने और निर्वाचित सरकार के दैनिक काम में दखल का आरोप लगा कर उन्हें हटाने की मांग करती आई है. बीजेपी के रणनीतिकारों के मुताबिक -कांग्रेस किरण बेदी को विधानसभा चुनाव में मुद्दा बना सकती थी इसलिए उन्हें हटाकर यह मुद्दा खत्म कर दिया गया.
बीजेपी के सामने दूसरी परेशानी उसकी सहयोगी एआईएनआरसी को लेकर थी जो किरण बेदी से खुश नहीं थी, बीजेपी, एआईएनआरसी और एआईएडीएम का आने वाले चुनाव के लिए गठबंधन होगा और सहयोगी पार्टी को साथ लेने के लिए भी किरण बेदी को हटा दिया गया. उनका तबादला करने के बजाए बर्खास्त कर दिया गया. ऐसा  पुदुच्चेरी की जनता को संदेश देने के लिए किया गया कि पार्टी उनसे खुश नहीं थी. 
तीसरा इस बात की संभावना है कि नारायणसामी सरकार के अल्पमत में आने के बाद केंद्र सरकार वहां दखल दे. साथ ही 
विधानसभा भंग कर राष्ट्रपति शासन लगाए जाने की भी संभावना है. ऐसे में किरण बेदी की अगुवाई में चुनाव कराना ठीक नहीं होता. खासतौर से तब जबकि कांग्रेस ने उन्हें ही मुद्दा बनाया हुआ था. सुबह ही किरण बेदी ने एक ट्वीट करके उनके साथ काम करने वाले और पुदुच्चेरी के लोगों का आभार जताया है. उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा है, 'उन सभी का शुक्रिया, जो पुदुच्चेरी के उप राज्यपाल के तौर पर मेरी यात्रा के हिस्सा थे. पुदुच्चेरी के लोगों और सरकारी अधिकारियों का शुक्रिया.' 
एक पत्र ट्वीट करते हुए उन्होंने लिखा कि पुदुच्चेरी के उप राज्यपाल के तौर पर मेरे अनुभव के लिए मैं भारत सरकार की आभारी रहूंगी. मैं उन सब का भी आभार जताती हूं, जिन्होंने मेरे साथ काम किया. साथ ही उन्होंने कहा कि मैं पूरे भरोसे के साथ कह सकती हूं कि मेरे इस कार्यकाल के दौरान राजनिवास टीम ने पूरी लगन से जनहित के लिए काम किया है. पुदुच्चेरी का बहुत उज्ज्वल भविष्य है. यह अब लोगों के हाथ में है.
साभार :-पुर्नेंदु शुक्ला ,जर्नलिस्ट ,सदस्य सुप्रीम कोर्ट मोनिटरिंग कमिटी गैस पीड़ित के फेसबुक वाल से 

 

किरण बेदी को पुदुच्चेरी से क्यों हटाया गया?